Kaun Jimmedar Hai

कौन जिम्मेदार है | Kavi Singh | Lyrics

KAVON-JIMMEDAR-HAI
कौन जिम्मेदार है

उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है, 
कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है।
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है, 
कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है।
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम...
ए वतन मेरे वतन तुझको नमन तुझको नमन...

सबसे पहले यह बीमारी चीन देश में पाई जी, चीन देश में पाई जी।
अमरीका जापान रूस और इटली भी घबराई जी, इटली भी घबराई जी।
थोड़े दिन के अंदर ही यह हाहाकार मचाई जी, हाहाकार मचाई जी।
यहां बीमारी बाहर देश से बैठ जहाज में आईजी, बैठ जहाज में आईजी।
इस मर्ज की कोई दवाई न, और न कोई उपचार है।
कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है।
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है

पैसे के चक्कर में फस के सब दुनिया हो गई अंधी, सब दुनिया हो गई अंधी।
कोई किसी से मिल नहीं सकता, हो गई ना अब पाबंदी, हो गई ना अब पाबंदी।
सारे भीतर महादेव के संग में रोक दिया नंदी, संग  में रोक दिया नंदी।
तहखाने भी खोल दिए, सब झूट  झूट आ गए बंदी, झूट  झूट आ गए बंदी।
कावेरी कृष्णा कालंदी, सूनी गंगा की धार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है
ए वतन प्यारे वतन तुझको नमन तुझको नमन...

भारत में ऐलान हुआ है कुछ दिन की कुभात होगी, कुछ दिन की कुभात होगी।
कुछ दिन के लिए बिना काम ना किसी से मुलाकात होगी, ना कोई मुलाकात होगी।
40 दिन में भरे हिंद  की कोरोना तो मात होगी, कोरोना तो मात होगी।
मानवता की खून की प्यासी मरकट की जमात होगी, मर्कट की जमात होगी।
कितनी बड़ी बात हो गई मौलाना फरार है , कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है।
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है।

सत्य सनातन को दुनियाँ ने  जीवन का आधार माना, जीवन का आधार माना।
हाथ जोड़ प्रणाम करो ये सर्वोत्तम सत्कार माना, सर्वोत्तम सत्कार माना।
पांच तंत्र को मेल करने को अग्नि ही संस्कार माना, अग्नि ही संस्कार माना।
आदि सृष्टि अंत तलक तक नहीं वेद से बाहर माना, नहीं वेद से बाहर माना।
सारा ही संसार माना मूरख की तकरार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है
ये वतन प्यारे वतन तुझको नमन तुझको नमन...

मानवता का धर्म न जाने गुरु नहीं शैतान है वो,  गुरु नहीं शैतान है वो।
जियो और जीने दो सबको सत्य सनातन ज्ञान है वो, सत्य सनातन ज्ञान है वो।
मानव जिसकी पूजा करता वोही तो भगवान है वो, वोही तो भगवान है वो।
विकास कहे म्हारी संस्कृति म्हारा स्वाभिमान है वो, म्हारा स्वाभिमान है वो।
भारत देश महान हमारा थाड्डा चौकीदार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है
उत्तर दक्षिण पूरब पश्चिम बंद सारा संसार है, कौन जिम्मेदार है जी कौन जिम्मेदार है

READ MORE

Post a comment

0 Comments