KAVI SINGH DHARA 370

KAVI SINGH DHARA 370

KAVI SINGH DHARA 370
KAVI SINGH DHARA 370

KAVI SINGH DHARA 370 LYRICS
गर्व से बोलो वंदे मातरम, गर्व से बोलो वंदे मातरम,
तोड़ दी DHARA 370 चेहरो पर खुशहाली आयी है,
दीप जलाओं देश में आज एक और दीवाली आयी है,
दीप जलाओं देश में आज एक और दीवाली आयी है,
जो सच्चे  हिन्दु स्ता नी है हमको उनसे बैर नहीं,
हट गयी DHARA 370 है अब गद्दारों की खैर नहीं,
हट गयी DHARA 370 है अब गद्दारों की खैर नहीं,
सब आश लगाये बैठे थे कब खुशीयों के दिन आयेगे,
जो गद्दार छुपे बैठे अब बाहर निकाले जायेगें,
जो गद्दार छुपे बैठे अब बाहर निकाले जायेगें,
७० साल से लगी बीमारी उसका आज इलाज हुआ
हुआ अंधेरा दूर देश का आज है रौशनताज हुआ,
हुआ अंधेरा दूर देश का आज है रौशनताज हुआ,
ना अब पत्थसर बरसेगे ना खुशी की राह कुमुदेगी,
अब कश्मीतर की घाटी में श्रीराम के नारे गूजेंगे,
अब कश्मीतर की घाटी में श्रीराम के नारे गूजेंगे,
बहुत शहादत दी वीरों ने सफल हुयी कुर्वानी है,
देश भगत है झूम रहे गद्दारोंकी ऑंख में पानी हैं,
देश भगत है झूम रहे गद्दारोंकी ऑंख में पानी हैं,
अब कश्मी र की घाटी में सब नींद चैन की सोयेगें,
जो देश मिटाना चाहते थे वो आज बैठ के रोयेगें,
जो देश मिटाना चाहते थे वो आज बैठ के रोयेगें,
कान खोल सुन लो गद्दारों गद्दारी को त्याबगो तुम,
जिस बिल में छुपे उसे बंद कर लो या देश छोड़ के भागों तुम,
जिस बिल में छुपे उसे बंद कर लो या देश छोड़ के भागों तुम,
कही बनी है खीर आज और कही बना आज हलवा है,
सारी दुनिया देख रही आज भारत का जलवा है,
सारी दुनिया देख रही आज भारत का जलवा है,
भारत मॉं के वीरों ने दिखा दिया है वो करके ,
अब सब को अहसास हुआ हम बिल्कुाल ना रहते ड़रके,
अब सब को अहसास हुआ हम बिल्कुाल ना रहते ड़रके,
सारी दुनिया ने आज ये भारत की ललकार सुनी,
अब लगता है मेरे देश में असली है सरकार बनी,
अब लगता है मेरे देश में असली है सरकार बनी,
आज खुशी के मौके पें, कवि सिंह ये गाती है,
शहीद हुये जो देश के खातिर उनको शीश झुकाती है,
गर्व से बोलो वंदे मातरम, गर्व से बोलो वंदे मातरम,
KAVI SINGH DHARA 370



garv se bolo vande maataram, garv se bolo vande maataram,
tod dee 370 cheharo par khushahaalee aayee hai,
deep jalaon desh mein aaj ek aur deevaalee aayee hai,
deep jalaon desh mein aaj ek aur deevaalee aayee hai,
jo sachche  hindu sta nee hai hamako unase bair nahin,
hat gayee 370 hai ab gaddaaron kee khair nahin,
hat gayee 370 hai ab gaddaaron kee khair nahin,
sab aash lagaaye baithe the kab khusheeyon ke din aayege,
jo gaddaar chhupe baithe ab baahar nikaale jaayegen,
jo gaddaar chhupe baithe ab baahar nikaale jaayegen,
70 saal se lagee beemaaree usaka aaj ilaaj hua
hua andhera door desh ka aaj hai raushanataaj hua,
hua andhera door desh ka aaj hai raushanataaj hua,
na ab patthasar barasege na khushee kee raah kumudegee,
ab kashmeetar kee ghaatee mein shreeraam ke naare goojenge,
ab kashmeetar kee ghaatee mein shreeraam ke naare goojenge,
bahut shahaadat dee veeron ne saphal huyee kurvaanee hai,
desh bhagat hai jhoom rahe gaddaaronkee onkh mein paanee hain,
desh bhagat hai jhoom rahe gaddaaronkee onkh mein paanee hain,
ab kashmee ra kee ghaatee mein sab neend chain kee soyegen,
jo desh mitaana chaahate the vo aaj baith ke royegen,
jo desh mitaana chaahate the vo aaj baith ke royegen,
kaan khol sun lo gaddaaron gaddaaree ko tyaabago tum,
jis bil mein chhupe use band kar lo ya desh chhod ke bhaagon tum,
jis bil mein chhupe use band kar lo ya desh chhod ke bhaagon tum,
kahee banee hai kheer aaj aur kahee bana aaj halava hai,
saaree duniya dekh rahee aaj bhaarat ka jalava hai,
saaree duniya dekh rahee aaj bhaarat ka jalava hai,
bhaarat mon ke veeron ne dikha diya hai vo karake ,
ab sab ko ahasaas hua ham bilkuaal na rahate darake,
ab sab ko ahasaas hua ham bilkuaal na rahate darake,
saaree duniya ne aaj ye bhaarat kee lalakaar sunee,
ab lagata hai mere desh mein asalee hai sarakaar banee,
ab lagata hai mere desh mein asalee hai sarakaar banee,
aaj khushee ke mauke pen, kavi sinh ye gaatee hai,
shaheed huye jo desh ke khaatir unako sheesh jhukaatee hai,
garv se bolo vande maataram, garv se bolo vande maataram,

Post a comment

0 Comments